क्यो झूठ बोलते हो साहब, कि चरखे से आजादी आई थी ||

चूमना पड़ता है फांसी का फंदा, चरखा चलाने से इंकलाब नहीं आता।

जाने कितने झूले थे फाँसी पर, कितनो ने
गोली खाई थी |

क्यो झूठ बोलते हो साहब, कि चरखे से
आजादी आई थी ||

चरखा हरदम खामोश रहा, और अंत देश
को बांट दिया |

लाखों बेघर,लाखो मर गए, जब गाँधी ने
बंदरबाँट किया ||

जिन्ना के हिस्से पाक गया , नेहरू को
हिन्दुस्तान मिला |

जो जान लुटा गए भारत पर, उन्हे ढंग
का न सम्मान मिला ||

इन्ही सियासी लोगों ने, शेखर को भी
आतंकी बतलाया था |

रोया अलफ्रेड पार्क था उस दिन, एक
एक पत्ता थर्राया था ||

जो देश के लिए जिये मरे और फाँसी के
फंदे पर झूल गए |

हमें कजरे गजरे तो याद रहे, पर अमर
पुरोधा हम भूल गए ||

क्यो झूठ बोलते हो साहब, कि चरखे से
आजादी आई थी ||

JAY HIND

2 Comments

  • Vandan ghelada
    Posted January 7, 2020 10:36 pm 0Likes

    AK dam sachi vat kahe chhe a poam
    Jene jene Main kam karu chhe tene
    Sanman nathi maltu Atle maru atlu j
    Kevu chhe plz sanman apo je tena hakdar chhe
    Jai hind jai bharat

Join the discussion

For security, use of Google's reCAPTCHA service is required which is subject to the Google Privacy Policy and Terms of Use.

I agree to these terms.